Urdu Kumar Vishwas

This website contains Urdu Kumar Vishwas. Feel free to add your own Urdu Kumar Vishwas here.
Kumar Vishwas

Kumar Vishwas is a Hindi poet. Kumar Vishwas was born on 10 February 1970. Kumar Vishwas from Pilkhuwa, Ghaziabad, Uttar Pradesh. Read Kumar Vishwas Poetry on sheroshayari.net.

Maula Meri Muraad Mujhe Khud Pata Nahi

Kumar Vishwas
By | Jul 23, 2013

गम में हूँ या हूँ शाद मुझे खुद पता नहीं , खुद को भी हूँ मैं याद मुझे खुद पता नहीं, मैं तुझ को चाहता हूँ मग़र मांगता नहीं , मौला मेरी मुराद मुझे खुद पता नहीं ……. -Kumar Vishwas

Kabhi Tumse Thi Jo Wo Hi Shikayat Hai Zamaane Se

Kumar Vishwas
By | Jul 23, 2013

तुम्ही पे मरता है ये दिल,अदावत क्यों नहीं करता ? कई जन्मों से बंदी है,बगावत क्यों नहीं करता ? कभी तुमसे थी जो,वो ही शिकायत है ज़माने से, मेरी तारीफ़ करता है, मोहब्बत क्यों नहीं करता …..? -Kumar Vishwas

Dilon Ke Darmiyan

Kumar Vishwas
By | Jul 23, 2013

अपने लफ़्ज़ों से चुकाया है किराया इसका, दिलों के दरमियां यूँ मुफ्त में नहीं रहती, साल दर साल मै ही उम्र न देता इसको, तो ज़माने में मोहब्बत जवां नहीं रहती… -Kumar Vishwas

Tu Bhi Hai Aur Main Bhi Hun

Kumar Vishwas
By | Jul 23, 2013

खुशहाली में इक बदहाली, तू भी है और मैं भी हूँ हर निगाह पर एक सवाली, तू भी है और मै भी हूँ दुनियां कुछ भी अर्थ लगाये,हम दोनों को मालूम है भरे-भरे पर ख़ाली-ख़ाली , तू भी है और मै भी हूँ……. -Kumar Vishwas

Mujhko Tu Hi Agar Nahin Milti

Kumar Vishwas
By | Jul 23, 2013

Unki Khairo-Khabar Nahin Milti Humko Hi Khaaskar Nahin Milti Shayari Ko Nazar Nahin Milti Mujhko Tu Hi Agar Nahin Milti Rooh Mein , Dil Mein, Jism Mein Duniya, Dhoondta Hoon Magar Nahin Milti Log Kehte Hai Rooh Bikti Hai, Main Jidhar Hoon Udhar Nahin Milti उनकी खैरो-ख़बर नही मिलती, हमको ही ख़ासकर नही मिलती ! […]

We update our poetry database on daily basis so keep coming back for more Kumar Vishwas.
© 2007 Sher-o-Shayari, - All Shers are Copyright © All rights reserved. Privacy Policy - Terms & Conditions - Disclaimer - Contact Us

About Sher O Shayari
eXTReMe Tracker